four banks including sbi idbi icici and central bank will provide debit card switch on off option for escape theft from debit card – गुड न्यूज: बैंकों के इस कदम से डेबिट कार्ड से ठगी पर लगेगी पूरी तरह से लगाम, Hindi News

एटीएम डेबिट कार्ड की चाभी अब आपके मोबाइल में होगी। जब चाहें तब डेबिट कार्ड का स्विच ऑन-ऑफ कर सकेंगे। देश के कई राष्ट्रीयकृत बैंकों ने डेबिट कार्ड में पहली बार टेम्प्रेरी ब्लॉक का विकल्प दिया है। चाहकर भी कोई आपके कार्ड का क्लोन बनाकर, उसे बदलकर या डिटेल्स पूछकर ठगी नहीं कर सकेगा। ऐसे में डेबिट कार्ड से आपकी इच्छा के बिना कोई लेनदेन नहीं होगा। बढ़ते साइबर अपराध को लेकर बैंकों का यह प्रयास ग्राहकों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

मोबाइल एप्लीकेशन में अभी तक डेबिट कार्ड को सिर्फ स्थायी तौर पर ब्लॉक करने का विकल्प होता था। लोग डेबिट कार्ड का दुरुपयोग होने अथवा खो जाने पर ही हेल्पलाइन पर फोन कर या मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये उसे ब्लॉक करते थे। पहली बार ऐसा हुआ है जब कुछ बैंकों ने टेम्प्रेरी ऑन-ऑफ स्विच की व्यवस्था डेबिट कार्ड में लागू की है। इसकी शुरुआत स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने की। 

इसके बाद आईडीबीआई, सेंट्रल और आईसीआईसीआई बैंक ने भी अपनी मोबाइल एप्लीकेशन में इस तरह का विकल्प दे दिया। दूसरे प्राइवेट बैंक भी अब इस तरह की व्यवस्था करने जा रहे हैं, जिससे डेबिट कार्ड में ऑन-ऑफ का स्विच हो। शामली स्थित साइबर क्राइम सेल के प्रभारी कर्मवीर सिंह बताते हैं कि साइबर ठगी की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर यह बैंकों की अच्छी शुरुआत है। इससे निश्चित तौर पर आर्थिक अपराध में कमी आएगी। दूसरे बैंकों को भी ऐसी व्यवस्था लागू करनी चाहिए।

अपने कार्ड को ऐसे ऑन-ऑफ करें
सेंट्रल बैंक की ‘सेंट मोबाइल’, एसबीआई की ‘एसबीआई क्विक’, आईसीआईसीआई की ‘आई मोबाइल’ और आईडीबीआई की ‘आईडीबीआई बैंक गो मोबाइल’ एप्लीकेशन को प्ले स्टोर से डाउनलोड करें। अपने खाता संख्या और मोबाइल नंबर से एप्लीकेशन रजिस्टर करें। एटीएम कार्ड ऑन-ऑफ स्विच पर जाएं। कार्ड ऑफ करने के लिए डेबिट कार्ड के आखिरी चार नंबर दर्ज करें। इसके बाद कार्ड टेम्प्रेरी ऑफ हो जाएगा। जब एटीएम बूथ में पैसे निकालने जाएं तो तुरंत कार्ड ऑन कर लें।

ठगी से ऐसे बच सकते हैं
एटीएम कार्ड से पैसा निकालने के तुरंत बाद आप अपने डेबिट कार्ड को मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये ऑफ कर दें। इसके बाद कोई भी व्यक्ति आपके कार्ड का दुरुपयोग नहीं कर पाएगा। यदि उसे कार्ड नंबर और अन्य जानकारी भी मिल जाए तो भी वह कुछ नहीं कर पाएगा। क्योंकि यह एप्लीकेशन सिर्फ बैंक में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ही काम करेगी। इसके बाद आप जब पुन: एटीएम में पैसे निकालने जाएं तो उसका स्विच ऑन कर दें।01 नंबर पर है साइबर अपराध में देश में यूपी की स्थिति

10 मिनट में एनसीआर में साइबर अपराध की एक घटना
36 हजार केस दर्ज हुए दस साल के दौरान पूरे देश में
500 केस हर साल मेरठ में आते हैं साइबर अपराध के

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

www.000webhost.com