India vs Australia 5 reason why Team India win Melbourne Test – INDvsAUS: टीम इंडिया ने जीता मेलबर्न टेस्ट, जानिए जीत के 5 कारण, Cricket Hindi News

विराट कोहली के नेतृत्व में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में नया इतिहास रच दिया है। 1977-78 के दौरे बाद सीरीज में दो टेस्ट मैच जीतने वाले यह पहली टीम बन गई। उस समय बिशन सिंह बेदी के नेतृत्व में भारत ने ऑस्ट्रेलिया से दो टेस्ट जीते थे। भारतीय क्रिकेट टीम ने मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को 137 से हरा दिया। इस जीत के साथ भारत ने मेजबान टीम के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-1 से बढ़त बना ली है। भारत ने अपनी दूसरी पारी के आधार पर ऑस्ट्रेलिया को 399 रनों का लक्ष्य रखा था, जिसे ऑस्ट्रेलिया हासिल नहीं कर पाई और उसकी दूसरी पारी 261 रनों पर समाप्त हो गई।

मेलबर्न टेस्ट मैच जीत कर भारत सीरीज पर कब्जा करने के काफी करीब पहुंच गया। कम से कम अब सीरीज हारने का खतरा समाप्त हो गया है। मेलबर्न टेस्ट जीतने के पीछे वह कौन सी पांच वजह रहीं, आइए देखते हैः

STATS में जानिए, भारत के लिए क्यों यादगार होगी मेलबर्न की जीत!

1. भारत का टॉस जीतनाः मेलबर्न की पिच के बारे में किसी को अंदाजा नहीं था कि यह कैसे बिहेव करेगी। विराट कोहली ने टॉस जीत कर पहलेबल्लेबाजी का फैसला किया, क्योंकि उन्हें लग रहा था कि पिच धीरे-धीरे स्लो होती जाएगी और इस पर बल्लेबाजी करना कठिन होगा। विराट का यह निर्णय सही साबित हुआ। मैच के पहले दिन बल्लेबाजी करना बेहद आसान था जबकि बाद में यह मुश्किल होता गया। ऑल राउंड परफॉर्मेंस के बावजूद टॉस ने भी भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई। कल्पना करके देखिये यदि टॉस ऑस्ट्रेलिया ने जीता होता तो निश्चित रूप से स्थिति अलग होती।  

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों पर भड़के कोच, कहा- विराट कोहली से सीखो

2. अच्छी ओपनिंग पार्टनरशिपः मेलबर्न में हनुमा विहारी और डेब्यू कर रहे मयंक अग्रवाल दो नए ओपनर थे। दोनों ने संयम से पारी की शुरुआत की।बेशक मयंक और हनुमा विहारी के बीच पहली विकेट के लिए 40 रन की भागीदारी हुई। हनुमा ने 8 रन बनाए, फिर भी भारत को एक ठोस शुरुआत मिल गई था। बाकि का काम मयंक और दूसरे बल्लेबाजों ने किया। चेतेश्वर पुजारा (106), कोहली (82), मयंक अग्रवाल (76), अजिक्य रहाणे (34), रोहित शर्मा (63) और ऋषभ पंत (39) के रनों की बदौलत भारत ने 7 विकेट पर 44 3रन बनाकर पारी घोषित की। पहली पारी के स्कोर ने टीम की जीत की बुनियाद रखी।

 

विराट कोहली ने 2018 का अंत किया DUCK के साथ, इन रिकॉर्ड से चूके

3. टीम संयोजनः पर्थ टेस्ट में भारत को एक स्पिनर की कमी बहुत ज्यादा खली थी। तेज गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी की लेकिन स्पिनर की कमी के चलते भारत को वह टेस्ट मैच हारना पड़ा। मेलबर्न टेस्ट में प्रबंधन टीम संयोजन को लेकर बेहद सजग था। केएल राहुल, मुरली विजय, उमेश यादव को प्लेइंग 11 से बाहर किया गया। इनकी जगह रवींद्र जडेजा, रोहित शर्मा और मयंक अग्रवाल को मौका मिला। इन तीनों ही खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया। जसप्रीत बुमराह ने पहली पारी में 6 विकेट लेकर ऑस्ट्रेलिया की कमर तोड़ दी। ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम 151 पर आउट हो गई। नतीजतन भारत को पहली पारी के आधार पर बड़ी लीड मिल गई।  

PIC: ऑस्ट्रेलियाई फैन्स ने दी विराट को गाली, कोहली ने इस अंदाज में दिया जवाब

4. ऑस्ट्रेलिया की कमजोर बल्लेबाजीः स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर की अनुपस्थिति में ऑस्ट्रेलिया की टीम लगातार खराब प्रदर्शन कर रही है। खासतौर से उनकी बल्लेबाजी। मेलबर्न में भी ऑस्ट्रेलिया का टॉप ऑर्डर पूरी तरह असफल रहा। एरोन फिंज, उस्मान ख्वाजा, शॉन मार्श, ट्रेविस हैड असफल साबित हुए। हालांकि गेंदबाजों ने दूसरी पारी में शानदार गेंदबाजी करके ऑस्ट्रेलिया को वापस मैच में लाने की कोशिश की। खासतौर पर पैट कमिंस ने 6 विकेट लेकर टीम इंडिया को बुरी तरह झिंझोड़ दिया, लेकिन इसके बावजूद मैच ऑस्ट्रेलिया की पकड़ में नहीं आ पाया।

VIDEO: मयंक अग्रवाल की गर्दन में लगी गेंद, मैदान छोड़कर जाना पड़ा बाहर

5. फिंच का लगातार फ्लॉप होनाः ऑस्ट्रेलिया के धाकड़ ओपनर एरोन फिंच अब तक हुए तीनों टेस्ट में बुरी तरह फ्लॉप रहे हैं। फिंच ही नहीं ऑस्ट्रेलिया का पूरा टॉप आर्डर ही असफल रहा है। इसका असर पूरी टीम पर पड़ा। बेशक निचले क्रम के बल्लेबाजों ने संघर्ष किया, लेकिन यह संघर्ष हार से बचाने के लिए काफी नहीं था। तेज गेंदबाज बुमराह, इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी को खेल पाना ऑस्ट्रेलियन बल्लेबाजों के लिए मेलबर्न में सहज नहीं रहा। इन तीनों गेंदबाजों ने लगातार दबाव बनाए रखा। नतीजा ऑस्ट्रेलिया को हार का मुंह देखना पड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

www.000webhost.com